बिहार के नियोजित शिक्षकों का वेतन 15% बढा,जनवरी,2022 से मिलेगा लाभ
 बढा बिहार के साढे तीन लाख नियोजित शिक्षकों को सरकार ने  15 फीसदी वेतनवृद्धि का लाभ देने का आदेश जारी कर दिया है।  1 जनवरी 2022 से राज्य के साढ़े 3 लाख नियोजित शिक्षकों को बढ़े हुए वेतन का लाभ मिल सकेगा। बिहार के सभी कोटि के नियोजित शिक्षकों और पुस्तकालयाध्यक्षों को 1 अप्रैल 2021 से 15 फीसदी वेतनवृद्धि का संकल्प सरकार के शिक्षा विभाग ने 29 अगस्त 2020 को ही जारी किया था। आखिरकार इस संकल्प को लागू करने के लिए शिक्षा विभाग ने विस्तृत दिशा-निर्देश जारी कर दिया है। अब शिक्षकों के वेतन निर्धारण की प्रक्रिया जल्द शुरू होगी और नए साल से वेतनवृद्धि का लाभ मिल सकेगा.

1 अप्रैल 2021 के प्रभाव से जिन शिक्षकों, पुस्तकालयाध्यक्षों के वेतन का निर्धारण होगा, अब उन्हें वार्षिक वेतनवृद्धि का लाभ 1 जनवरी 2022 से देय होगा। 12 नवम्बर 2021 के पे-मैट्रिक्स में वेतन निर्धारण में यदि किसी शिक्षक, पुस्तकालयाध्यक्ष का मूल वेतन अपने कनीय शिक्षक से कम निर्धारित होगा तो उनका मूल वेतन कनीय शिक्षक के मूल वेतन के अनुरूप निर्धारित किया जाएगा। लेकिन भत्ते पूर्ववत रहेंगे और मूल वेतन में 1.15 गुना वृद्धि होगी।

शिक्षा विभाग द्वारा 1 अप्रैल 2017 को जारी संकल्प के तहत निर्धारित मैट्रिक्स में पूर्व से प्राप्त मूल वेतन में 1.15 से गुना कर जो राशि आएगी, उसे ताजा जारी पे-मैट्रिक्स के आधार पर ठीक ऊपर के लेवल के अनुसार निर्धारित करते हुए 1 अप्रैल 2021 से वित्तीय लाभ अनुमान्य होगा। यानि अब प्राइमरी से लेकर प्लस 2 तक के शिक्षकों को 3 हजार से लेकर 4200 तक बढ़े हुए वेतन मिलेंगे और अब नियोजित शिक्षकों का वेतन बढ़कर अधिकतम 39,000 के पार हो जाएगा। जारी आदेश में 1 से लेकर 18 साल तक की सेवा वाले अप्रशिक्षित, प्राथमिक, माध्यमिक और उच्च माध्यमिक शिक्षकों का पे मैट्रिक्स घोषित कर दिया गया है।



Top