पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में इमरान खान सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव के रद्द
पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में इमरान खान सरकार के खिलाफ लाए गए अविश्वास प्रस्ताव के रद्द होने के बाद विपक्ष ने जमकर हंगामा मचाया है। 
पाकिस्तान के संविधान-कानून के जानकार और वरिष्ठ पत्रकार अब भी इमरान सरकार की ओर से अविश्वास प्रस्ताव रद्द करने के पीछे के तर्कों को समझने की कोशिश कर रहे हैं। खासकर डिप्टी स्पीकर की तरफ से संविधान के अनुच्छेद 5 के तहत प्रस्ताव को रद्द करने के कदम को लेकर अब भी बहस छिड़ी है। हालांकि, बहुत कम लोगों को ही मालूम है कि आज सुबह पाकिस्तान की संसद में ऐसा क्या हुआ कि इमरान को संविधान को ताक पर रखकर यह कदम उठाना पड़ा। 
नेशनल असेंबली में आज इमरान खान सरकार ने क्यों अनुच्छेद 5 का जिक्र किया और आखिर किन मजबूरियों की वजह से डिप्टी स्पीकर सूरी को संसद में अविश्वास प्रस्ताव को रद्द करना पड़ा। इसके अलावा अगर सुप्रीम कोर्ट इस मामले को असंवैधानिक मानकर इमरान खान सरकार को दोषी करार देता है तो उनके खिलाफ किस तरह की कार्रवाई हो सकती है।
..कल रात यानी शनिवार रात को इमरान सरकार की तरफ से यह दावा भी किया गया था कि उसके 140 सांसदों ने इस्तीफा दे भी दिया है। इन सांसदों को रविवार को नेशनल असेंबली में इस्तीफा देने के लिए कहा गया। हालांकि, आज जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो पीटीआई के अधिकतर सांसद सदन में ही नहीं पहुंचे। रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस्तीफे का वादा करने वाले 140 में से सिर्फ 80 सांसद ही असेंबली पहुंचे। इसके बाद इमरान सरकार ने स्पीकर के जरिए अविश्वास प्रस्ताव को गिरवाने का फैसला किया। 

Top