संयुक्त राष्ट्र महासभा  में रूस के खिलाफ निंदा प्रस्‍ताव पास, खिलाफ पड़े 141 वोट और समर्थन में केवल 5 वोट ,35 देशों ने  वोटिंग से बनाई दूरी
बुधवार को 193 सदस्यों वाले संयुक्त राष्ट्र महासभा में यूक्रेन पर रूसी आक्रमण के खिलाफ एक निंदा प्रस्ताव लाया गया था. इस प्रस्ताव को 141 देशों का समर्थन मिला. रूस सहित पांच देशों ने प्रस्ताव का विरोध किया।भारत सहित 35 देशों ने वोटिंग में भाग नहीं लिया।प्रस्ताव को पासवान के लिए दो-तिहाई बहुत की आवश्यकता थी और निंदा प्रस्ताव पास हो गया।
 यूक्रेन से जारी जंग के बीच आज संयुक्त राष्ट्र महासभा  (यूएनजीए) में रूस के खिलाफ निंदा प्रस्‍ताव पास हो गया. रूस के खिलाफ 141 वोट पड़े जबकि समर्थन में केवल 5 वोट पड़े. वहीं, 35 देशों ने इसमें हिस्सा नहीं लिया.
 संयुक्त राष्ट्र महासभा ने यूक्रेन के पक्ष में प्रस्ताव पास किया और इस प्रस्ताव में रूसी हमले की निंदा की गई है. रूस के खिलाफ प्रस्ताव में भारत ने दूरी बनाया.
संयुक्त राष्ट्र की आपात आम सभा में यूक्रेन पर रूस के आक्रामण के ख़िलाफ़ लाए गए निंदा प्रस्ताव में पांच देशों ने रूस के समर्थन में मतदान किया है.
इनमें से एक रूस स्वयं हैं. वहीं बेलारूस ने भी इस प्रस्ताव का विरोध किया. बेलारूस रूस का पुराना दोस्त है और यूक्रेन पर हमले में कुछ रूसी सेनाएं बेलारूस के रास्ते ही शामिल हुई हैं. विश्लेषक मानते हैं कि बेलारूस रूस का ही एक आश्रित राज्य है.
इसके अलावा सीरिया भी संयुक्त राष्ट्र आम सभा में रूस के साथ नज़र आया और प्रस्ताव के विरोध में मतदान किया. 
वहीं अफ़्रीकी देश इरीट्रिया और एशियाई देश उत्तर कोरिया ने भी रूस के समर्थन में मतदान किया.
 रूस का सहयोगी नज़र आ रहा चीन इस मतदान से अनुपस्थित रहा. इसके अलावा भारत भी मतदान से दूर रहा.
पिछले सप्ताह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में इसी तरह के मतदान में भी भारत,यूइई और चीन अनुपस्थित रहे थे.
आम सभा के निंदा प्रस्ताव के समर्थन में संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्य देशों में से 141 ने प्रस्ताव के समर्थन में और 5 ने विरोध में वोट किया. 35 सदस्य अनुपस्थित रहे.


Top