नये साल में नहीं महंगे होंगे कपड़े, 5 फीसदी ही लगेगी GST, फुटवियर पर फिलहाल फैसला नहीं
नई दिल्ली,31 दिसम्बर। 
आज यहां जीएसटी काउंसिल की 46वीं महत्वपूर्ण बैठक हुई. इस बैठक के में क्या फैसला लिया गया है इसको लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मीडिया को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि आज की बैठक में कपड़े पर जीएसटी की दर को 5 फीसदी से बढ़ाकर 12 फीसदी करने के फैसले को वापस ले लिया गया है. ऐसे में नए साल में कपड़े महंगे नहीं होंगे. वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की नीति-निर्धारक संस्था जीएसटी परिषद ने कई राज्यों की आपत्तियों को देखते हुए कपड़ा उत्पादों पर शुल्क की दर को पांच फीसदी से बढ़ाकर 12 फीसदी करने के फैसले का क्रियान्वयन टाल दिया है.

इधर बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री एवं सासंद  सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट में कहा कि कपड़े पर जीएसटी की दर नहीं बढ़ाने का निर्णय बड़ी राहत है।
उन्होंने कहा कि जीएसटी काउंसिल ने टेक्सटाइल पर कर न बढ़ा कर इसे 5 फीसद ही रखने के निर्णय से करोड़ों लोगों को राहत दी। 
  कोरोना  के चलते कपड़ा क्षेत्र पर जो मार पड़ी, उसे देखते हुए यह सराहनीय कदम है। 
   राज्यों को सेस फंड से राजस्व क्षतिपूर्ति जारी रखने की जो अवधि 30 जून 2022 को समाप्त हो रही है, उसे पांच साल बढ़ाने की मांग पर भी शीघ्र निर्णय लिया जाना चाहिए। 
  कोरोना के हालात को देखते हुए राज्यों की यह मांग जायज है। 
श्री मोदी ने कहा कि  इस वर्ष केंद्र सरकार कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने और आर्थिक विकास दर बढाने के दोहरे मोर्चे पर सफल रही। 
     साल के अंतिम चार  महीनों में अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार हुआ, पेट्रोल-डीजल पर शुल्क घटाये गए, खाद्य तेलों के दाम कम हुए, महंगाई कम हुई, बढी हुई एमएसपी पर गेहूँ की रिकार्ड खरीद से किसानों की आय बढ़ी और युवाओं को सरकारी नौकरियों में आने के अवसर भी मिले। 
   नया वर्ष 2022 सभी क्षेत्रों में विकास का स्वर्णिम अवसर सिद्ध हो, सबके लिए मंगलमय हो ! 
.........................

Top