मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बोले- जब तक जीवित रहेंगे लोगों के हित में काम करते रहेंगे

• बिहार के विकास के लिए जो भी जरूरी काम हैं उस दिशा में तेजी से कार्य हो रहा है- मुख्यमंत्री
पटना, 24 जनवरी ।:- मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने आज सम्राट अशोक कनवेंशन केंद्र स्थित बापू सभागार में जननायक कर्पूरी ठाकुर की 99वीं जयंती के अवसर पर आयोजित समारोह का दीप प्रज्ज्वलन कर विधिवत शुभारंभ किया। जनता दल यूनाइटेड के अति पिछड़ा प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित इस जयंती समारोह में सबसे पहले मुख्यमंत्री ने जननायक कर्पूरी ठाकुर के तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया। आयोजकों ने मुख्यमंत्री को अंगवस्त्र, स्मृति चिन्ह भेंटकर एवं मखाना तथा फूलों की बड़ी माला पहनाकर उनका स्वागत किया ।

समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व से ही हमलोग जननायक कर्पूरी ठाकुर जी की जयंती के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन करते रहे हैं। वर्ष 1988 में 64 साल की आयु में ही जननायक कर्पूरी ठाकुर जी का निधन हो गया, जिससे हमें काफी दुःख हुआ। उसी समय हमने यह संकल्प लिया कि उनके जन्म दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन करते रहेंगे और वर्ष 1989 से यह कार्यक्रम शुरू किया गया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग आते थे जिसको ध्यान में रखते हुए हमने इस कार्यक्रम को बापू सभागार में कराने का निर्णय लिया। बापू सभागार में पांच हजार लोगों के बैठने की क्षमता है। इस अवसर पर जननायक को याद करने के लिए काफी संख्या में बापू सभागार के बाहर भी लोग मौजूद हैं, यह देखकर मुझे काफी खुशी हो रही है। समारोह के अवसर पर उपस्थित आप सभी लोगों को मैं बधाई देता हूँ। हमलोगों ने जननायक जी की स्मृति के अवसर पर उनके द्वारा किये गये विकास कार्यों और उनकी बातों को लोगों के बीच प्रचारित करना शुरू किया। वर्ष 2020 में कोरोना संक्रमण आ गया, जिसके कारण पिछले दो वर्षों से यह कार्यक्रम स्थगित रहा। हालांकि पार्टी ऑफिस के कर्पूरी सभागार में यह कार्यक्रम आयोजित होता रहा जननायक कर्पूरी ठाकुर जी ने हर वर्ग के उत्थान और हर क्षेत्र के विकास के लिए काम किया। वर्ष 1978 में उन्होंने अनुसूचित जाति / जनजाति, पिछड़ा और अतिपिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षण लागू किया। कई पार्टियों के समर्थन से उनकी सरकार चल रही थी। दो साल बाद ही कुछ लोगों ने इधर-उधर कर उनको सत्ता से बेदखल कर दिया लेकिन आरक्षण नहीं  हटा सके। उन्होंने लोगों के हित में विकास के सभी कार्य किये, बाढ़ से लोगों के बचाव भी काम किये।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उस समय हम अपने क्षेत्र में बराबर घूमते रहते थे। क्षेत्र के लोगों ने कहना शुरू किया कि आप आगे बढ़िये, कब तक विधायक रहेंगे। जब हमने इस बात को जननायक जी के पास रखा तो उन्होंने हमारा नाम पार्टी के अध्यक्ष के रूप में ऐलान कर दिया। वर्ष 1987 में लोगों के कहने पर हमने काम संभाल लिया लेकिन वे हम सभी को छोड़कर जल्द ही चले गये, मुझे व्यक्तिगत रूप से काफी तकलीफ हुई। हमने संकल्प लिया कि उनके सपने को साकार करेंगे। जननायक जी ने अति पिछड़ा, पिछड़ा, अनुसूचित जाति/जनजाति, हिन्दू, मुस्लिम, ऊँची जाति सबके उत्थान के लिए काम किया। किसी से उनका मतभेद नहीं था। कभी किसी के विरुद्ध उन्होंने काम नहीं किया। जब हमें काम करने का मौका मिला तो उनके रास्ते पर चलते हुए सभी धर्म, समुदाय के उत्थान के लिए काम करना शुरू किया। हमलोगों ने देश में सबसे पहले वर्ष 2006 महिलाओं को 50 प्रतिशत का आरक्षण दिया जिसमें अतिपिछड़ा को 20 प्रतिशत, अनुसूचित जाति को 16 प्रतिशत और अनुसूचित जनजाति के लिए 1 प्रतिशत के आरक्षण का प्रावधान किया गया। बिहार में वर्ष 2007 के नगर निकाय चुनाव में भी महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया। अब तक चार चुनाव सम्पन्न हो चुके हैं, जिनमें बड़ी संख्या में महिलायें निर्वाचित हुईं। पहले महिलायें न के बराबर चुनाव जीतती थीं। वर्ष 2022 में चौथी बार हो रहे नगर निकाय के चुनाव में कुछ लोगों ने अति पिछड़ों के आरक्षण को चुनौती देने के लिए न्यायालय का सहारा लिया लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी और जिनलोगों ने नगर निकाय चुनाव में नॉमिनेशन किया था ही चुनाव लड़े।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब-गुरबा परिवार के बच्चें बच्चियों को पढ़ाने एवं उन्हें आगे बढ़ाने के लिए भी हमलोगों ने कई काम किये। लड़कियों के लिए पोशाक योजना और साइकिल योजना शुरू कराई जो देश में कही नहीं थी। विदेश से आकर लोगों ने इस काम को देखा और काफी सराहना की। कुछ लोग काम करने की बजाय सिर्फ पब्लिसिटी में विश्वास रखते हैं, हमलोग लोगों की भलाई के लिए काम करते हैं लेकिन उसकी चर्चा काफी कम होती है। वर्ष 2011 से हमने लड़कों को भी साइकिल योजना का लाभ देना शुरू किया। जब मुझे काम करने का मौका मिला तो बिहार का औसत प्रजनन दर 4.3 था राष्ट्रीय स्तर पर कराए गये अध्ययन में यह बात सामने आई की पति पत्नी में यदि पत्नी मैट्रिक पास है तो देश का प्रजनन दर 2 है और बिहार का प्रजनन दर भी 2, वही पत्नी इंटर पास है तो देश का प्रजनन दर 1.7 है, जबकि बिहार का 1.6 है, यह जानकर मुझे काफी खुशी हुई। अधिक से अधिक लड़कियों को पढ़ाने की दिशा में काफी काम किया गया जिसका नतीजा है कि अब बिहार का प्रजनन दर 4.3 से घटकर 2.9 पर आ गया है। इसे घटाकर 2 पर ले जाना है। बिहार क्षेत्रफल के मामले में देश में 12वें नंबर पर है, जबकि आबादी के मामले में तीसरे नंबर पर लेकिन वर्ष 2040 से आबादी स्थिर होना शुरू होगा। आप सभी चिंता मत करें। इसके लिए हर प्रकार से काम किया जा रहा है। बिहार का और अधिक तेज गति से विकास हो, इसके लिए हमलोग विशेष राज्य के दर्जे की मांग करते रहे हैं। अगर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिल जाता तो बिहार बहुत आगे बढ़ता। हमलोगों ने वर्ष 2013 में पुलिस की बहाली में महिलाओं को 35 प्रतिशत आरक्षण का लाभ दिया। आज बिहार के पुलिस बल में जितनी संख्या में महिलायें हैं उतनी देश के किसी भी बड़े से बड़े राज्य की पुलिस बल में महिलाओं की इतनी संख्या नहीं है। इसके अलावा सभी सरकारी सेवाओं में महिलाओं को 35 प्रतिशत का आरक्षण दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार स्वयं सहायता समूहों की संख्या 10 लाख से भी अधिक हो गयी है, जिसमें एक करोड़ 30 लाख से भी अधिक गरीब-गुरबा परिवारों की महिलायें जुड़ी हुई हैं। महिलायें काफी आगे बढ़ रही हैं और अपने बच्चों को भी पढ़ा रही हैं। हर वर्ग के उत्थान के लिए विकास के काम किये जा रहे हैं। समाज में प्रेम और भाईचारे का भाव कायम रहे इसके लिए आप सभी आपस में मिल-जुलकर रहें। कुछ लोग झगड़ा लगाने के चक्कर में पड़े रहते हैं, ऐसे लोगों से सजग रहने की जरूरत है। अति पिछड़ा समाज में हिन्दू-मुस्लिम सब हैं, कभी भी आपस में विवाद नही करना चाहिए। हमलोगों ने वर्ष 2018 में अनुसूचित जाति / जनजाति वर्ग के लोगों को व्यवसाय से जोड़ने के लिए 5 लाख रूपये का अनुदान और 5 लाख रूपये के ब्याज मुक्त ऋण पर कुल दस लाख रूपये मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति/जनजाति उद्यमी योजना के तहत उपलब्ध कराना शुरू किया। वर्ष 2020 में जननायक कर्पूरी ठाकुर जी की जयंती के अवसर पर इस योजना का लाभ अति पिछड़ों को देने की हमलोगों ने घोषणा की। उसके बाद उद्यमिता में रूचि रखने वाली सभी जाति, धर्म की महिलाओं को लाभ देने के लिए मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना शुरू की गयी। यही नहीं सभी जाति, समुदाय से जुड़े उद्यमिता में रूचि रखने वाले पुरुषों को भी 5 लाख रूपये का अनुदान और नाम मात्र के ब्याज पर पांच लाख रूपये का ऋण मुहैया कराया जाने लगा । उन्होंने कहा कि कुछ लोग काम नहीं करते सिर्फ प्रचार में लगे रहते हैं। पिछले कुछ महीने में हमलोगों ने 28 हजार लोगों को नौकरी देने का काम किया है। हमारा लक्ष्य 10 लाख लोगों को नौकरी देने एवं 10 लाख लोगों को रोजगार मुहैया कराने का है आपलोगों को आगे बढ़ाने के लिए और बिहार के विकास के लिए जो भी जरूरी काम है उस दिशा में काम तेजी से आगे बढ़ रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हर घर नल का जल, हर घर तक पक्की गली-नाली, हर घर बिजली, हर गाँव तक सड़क, पुल-पुलियों का निर्माण आदि कार्य कराए गये हैं, उसे मेंटेन रखने के लिए भी काम किया जा रहा है ताकि लोगों को असुविधा न हो। इसके अलावा पढ़ाई, इलाज सहित जो भी आवश्यक काम हैं, वह तेजी से आगे बढ़ाया जा रहा है। जहाँ कहीं भी अगर कोई काम करने की जरूरत हैं तो आप सभी सलाह दें। आप सभी के सहयोग से बिहार और आगे बढ़ेगा, यही जननायक कर्पूरी ठाकुर जी के प्रति सही मायने में श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने कहा कि पार्टी द्वारा चलाये गये सदस्यता अभियान में 75 लाख लोगों ने जदयू की सदस्यता ग्रहण की है। कोई पार्टी में आता है, हम उसे आगे बढ़ाते हैं और फिर वह चला जाता है, मेरा अपना कोई स्वार्थ नही है। हमारी यही इच्छा है कि बिहार आगे बढ़े। जननायक कर्पूरी ठाकुर जी और राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की एक-एक बात को याद रखना है और हम सभी को एकजुट रहकर उनके सपने को साकार करना है। इस अवसर पर हम जननायक को नमन करते हैं और जब तक जीवित रहेंगे लोगों के हित में काम करते रहेंगे।

समारोह को वित्त, वाणिज्य कर एवं संसदीय कार्य मंत्री श्री विजय कुमार चौधरी, ऊर्जा मंत्री श्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, जल संसाधन मंत्री श्री संजय कुमार झा, भवन निर्माण मंत्री श्री अशोक चौधरी, सांसद सह जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, सांसद सह जनता दल यूनाइटेड के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष श्री वशिष्ठ नारायण सिंह, सांसद श्री चंद्रेश्वर प्रसाद चंद्रवंशी, सांसद श्री रामनाथ ठाकुर, जनता दल यूनाइटेड के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश सिंह कुशवाहा, पूर्व सांसद श्री मंगनी लाल मंडल ने भी संबोधित किया।

जनता दल यूनाइटेड अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष सह विधायक श्री विजय सिंह निषाद ने जयंती समारोह की अध्यक्षता की, जबकि जनता दल यूनाइटेड के प्रदेश महासचिव श्री धर्मेन्द्र चंद्रवंशी ने मंच का संचालन किया ।

इस अवसर पर ग्रामीण विकास मंत्री श्री श्रवण कुमार, समाज कल्याण मंत्री श्री मदन सहनी, परिवहन मंत्री श्रीमती शीला कुमार, खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्रीमती लेशी सिंह, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मो० जमा खान, मंत्री विज्ञान एवं प्रावैधिकी श्री सुमित कुमार सिंह, मंत्री मद्य निषेध उत्पाद एवं निबंधन विभाग श्री सुनील कुमार, सांसद श्री दिलेश्वर कामत,

सांसद श्री कविता सिंह, सांसद श्री दुलाल चंद गोस्वामी, सांसद श्री संतोष कुशवाहा, सांसद श्री रामप्रीत मंडल, सांसद श्री अनिल हेगड़े, अन्य मंत्रीगण, सांसदगण, विधायकगण, विधान पार्षदगण, पूर्व मंत्रीगण, सांसदगण, विधायकगण, विधान पार्षदगण, जनता दल यूनाइटेड के नेतागण सहित बड़ी संख्या में जनता दल यूनाइटेड के कार्यकर्ता उपस्थित थे।संख्या -cm-81 24/01/2023

बापू सभागार में जननयक कर्पूरी ठाकुर जी की 99वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुये मुख्यमंत्री

• बिहार के विकास के लिए जो भी जरूरी काम हैं उस दिशा में तेजी से कार्य हो रहा है- मुख्यमंत्री

जब तक जीवित रहेंगे लोगों के हित में काम करते रहेंगे- मुख्यमंत्री

पटना, 24 जनवरी 2023 :- मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने आज सम्राट अशोक कनवेंशन केंद्र स्थित बापू सभागार में जननायक कर्पूरी ठाकुर की 99वीं जयंती के अवसर पर आयोजित समारोह का दीप प्रज्ज्वलन कर विधिवत शुभारंभ किया। जनता दल यूनाइटेड के अति पिछड़ा प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित इस जयंती समारोह में सबसे पहले मुख्यमंत्री ने जननायक कर्पूरी ठाकुर के तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें नमन किया। आयोजकों ने मुख्यमंत्री को अंगवस्त्र, स्मृति चिन्ह भेंटकर एवं मखाना तथा फूलों की बड़ी माला पहनाकर उनका स्वागत किया ।

समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व से ही हमलोग जननायक कर्पूरी ठाकुर जी की जयंती के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन करते रहे हैं। वर्ष 1988 में 64 साल की आयु में ही जननायक कर्पूरी ठाकुर जी का निधन हो गया, जिससे हमें काफी दुःख हुआ। उसी समय हमने यह संकल्प लिया कि उनके जन्म दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन करते रहेंगे और वर्ष 1989 से यह कार्यक्रम शुरू किया गया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में लोग आते थे जिसको ध्यान में रखते हुए हमने इस कार्यक्रम को बापू सभागार में कराने का निर्णय लिया। बापू सभागार में पांच हजार लोगों के बैठने की क्षमता है। इस अवसर पर जननायक को याद करने के लिए काफी संख्या में बापू सभागार के बाहर भी लोग मौजूद हैं, यह देखकर मुझे काफी खुशी हो रही है। समारोह के अवसर पर उपस्थित आप सभी लोगों को मैं बधाई देता हूँ। हमलोगों ने जननायक जी की स्मृति के अवसर पर उनके द्वारा किये गये विकास कार्यों और उनकी बातों को लोगों के बीच प्रचारित करना शुरू किया। वर्ष 2020 में कोरोना संक्रमण आ गया, जिसके कारण पिछले दो वर्षों से यह कार्यक्रम स्थगित रहा। हालांकि पार्टी ऑफिस के कर्पूरी सभागार में यह कार्यक्रम आयोजित होता रहा जननायक कर्पूरी ठाकुर जी ने हर वर्ग के उत्थान और हर क्षेत्र के विकास के लिए काम किया। वर्ष 1978 में उन्होंने अनुसूचित जाति / जनजाति, पिछड़ा और अतिपिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षण लागू किया। कई पार्टियों के समर्थन से उनकी सरकार चल रही थी। दो साल बाद ही कुछ लोगों ने इधर-उधर कर उनको सत्ता से बेदखल कर दिया लेकिन आरक्षण नहीं हटा सके। उन्होंने लोगों के हित में विकास के सभी कार्य किये, बाढ़ से लोगों के बचाव भी काम किये।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उस समय हम अपने क्षेत्र में बराबर घूमते रहते थे। क्षेत्र के लोगों ने कहना शुरू किया कि आप आगे बढ़िये, कब तक विधायक रहेंगे। जब हमने इस बात को जननायक जी के पास रखा तो उन्होंने हमारा नाम पार्टी के अध्यक्ष के रूप में ऐलान कर दिया। वर्ष 1987 में लोगों के कहने पर हमने काम संभाल लिया लेकिन वे हम सभी को छोड़कर जल्द ही चले गये, मुझे व्यक्तिगत रूप से काफी तकलीफ हुई। हमने संकल्प लिया कि उनके सपने को साकार करेंगे। जननायक जी ने अति पिछड़ा, पिछड़ा, अनुसूचित जाति/जनजाति, हिन्दू, मुस्लिम, ऊँची जाति सबके उत्थान के लिए काम किया। किसी से उनका मतभेद नहीं था। कभी किसी के विरुद्ध उन्होंने काम नहीं किया। जब हमें काम करने का मौका मिला तो उनके रास्ते पर चलते हुए सभी धर्म, समुदाय के उत्थान के लिए काम करना शुरू किया। हमलोगों ने देश में सबसे पहले वर्ष 2006 महिलाओं को 50 प्रतिशत का आरक्षण दिया जिसमें अतिपिछड़ा को 20 प्रतिशत, अनुसूचित जाति को 16 प्रतिशत और अनुसूचित जनजाति के लिए 1 प्रतिशत के आरक्षण का प्रावधान किया गया। बिहार में वर्ष 2007 के नगर निकाय चुनाव में भी महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण दिया गया। अब तक चार चुनाव सम्पन्न हो चुके हैं, जिनमें बड़ी संख्या में महिलायें निर्वाचित हुईं। पहले महिलायें न के बराबर चुनाव जीतती थीं। वर्ष 2022 में चौथी बार हो रहे नगर निकाय के चुनाव में कुछ लोगों ने अति पिछड़ों के आरक्षण को चुनौती देने के लिए न्यायालय का सहारा लिया लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी और जिनलोगों ने नगर निकाय चुनाव में नॉमिनेशन किया था ही चुनाव लड़े।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब-गुरबा परिवार के बच्चें बच्चियों को पढ़ाने एवं उन्हें आगे बढ़ाने के लिए भी हमलोगों ने कई काम किये। लड़कियों के लिए पोशाक योजना और साइकिल योजना शुरू कराई जो देश में कही नहीं थी। विदेश से आकर लोगों ने इस काम को देखा और काफी सराहना की। कुछ लोग काम करने की बजाय सिर्फ पब्लिसिटी में विश्वास रखते हैं, हमलोग लोगों की भलाई के लिए काम करते हैं लेकिन उसकी चर्चा काफी कम होती है। वर्ष 2011 से हमने लड़कों को भी साइकिल योजना का लाभ देना शुरू किया। जब मुझे काम करने का मौका मिला तो बिहार का औसत प्रजनन दर 4.3 था राष्ट्रीय स्तर पर कराए गये अध्ययन में यह बात सामने आई की पति पत्नी में यदि पत्नी मैट्रिक पास है तो देश का प्रजनन दर 2 है और बिहार का प्रजनन दर भी 2, वही पत्नी इंटर पास है तो देश का प्रजनन दर 1.7 है, जबकि बिहार का 1.6 है, यह जानकर मुझे काफी खुशी हुई। अधिक से अधिक लड़कियों को पढ़ाने की दिशा में काफी काम किया गया जिसका नतीजा है कि अब बिहार का प्रजनन दर 4.3 से घटकर 2.9 पर आ गया है। इसे घटाकर 2 पर ले जाना है। बिहार क्षेत्रफल के मामले में देश में 12वें नंबर पर है, जबकि आबादी के मामले में तीसरे नंबर पर लेकिन वर्ष 2040 से आबादी स्थिर होना शुरू होगा। आप सभी चिंता मत करें। इसके लिए हर प्रकार से काम किया जा रहा है। बिहार का और अधिक तेज गति से विकास हो, इसके लिए हमलोग विशेष राज्य के दर्जे की मांग करते रहे हैं। अगर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिल जाता तो बिहार बहुत आगे बढ़ता। हमलोगों ने वर्ष 2013 में पुलिस की बहाली में महिलाओं को 35 प्रतिशत आरक्षण का लाभ दिया। आज बिहार के पुलिस बल में जितनी संख्या में महिलायें हैं उतनी देश के किसी भी बड़े से बड़े राज्य की पुलिस बल में महिलाओं की इतनी संख्या नहीं है। इसके अलावा सभी सरकारी सेवाओं में महिलाओं को 35 प्रतिशत का आरक्षण दिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार स्वयं सहायता समूहों की संख्या 10 लाख से भी अधिक हो गयी है, जिसमें एक करोड़ 30 लाख से भी अधिक गरीब-गुरबा परिवारों की महिलायें जुड़ी हुई हैं। महिलायें काफी आगे बढ़ रही हैं और अपने बच्चों को भी पढ़ा रही हैं। हर वर्ग के उत्थान के लिए विकास के काम किये जा रहे हैं। समाज में प्रेम और भाईचारे का भाव कायम रहे इसके लिए आप सभी आपस में मिल-जुलकर रहें। कुछ लोग झगड़ा लगाने के चक्कर में पड़े रहते हैं, ऐसे लोगों से सजग रहने की जरूरत है। अति पिछड़ा समाज में हिन्दू-मुस्लिम सब हैं, कभी भी आपस में विवाद नही करना चाहिए। हमलोगों ने वर्ष 2018 में अनुसूचित जाति / जनजाति वर्ग के लोगों को व्यवसाय से जोड़ने के लिए 5 लाख रूपये का अनुदान और 5 लाख रूपये के ब्याज मुक्त ऋण पर कुल दस लाख रूपये मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति/जनजाति उद्यमी योजना के तहत उपलब्ध कराना शुरू किया। वर्ष 2020 में जननायक कर्पूरी ठाकुर जी की जयंती के अवसर पर इस योजना का लाभ अति पिछड़ों को देने की हमलोगों ने घोषणा की। उसके बाद उद्यमिता में रूचि रखने वाली सभी जाति, धर्म की महिलाओं को लाभ देने के लिए मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना शुरू की गयी। यही नहीं सभी जाति, समुदाय से जुड़े उद्यमिता में रूचि रखने वाले पुरुषों को भी 5 लाख रूपये का अनुदान और नाम मात्र के ब्याज पर पांच लाख रूपये का ऋण मुहैया कराया जाने लगा । उन्होंने कहा कि कुछ लोग काम नहीं करते सिर्फ प्रचार में लगे रहते हैं। पिछले कुछ महीने में हमलोगों ने 28 हजार लोगों को नौकरी देने का काम किया है। हमारा लक्ष्य 10 लाख लोगों को नौकरी देने एवं 10 लाख लोगों को रोजगार मुहैया कराने का है आपलोगों को आगे बढ़ाने के लिए और बिहार के विकास के लिए जो भी जरूरी काम है उस दिशा में काम तेजी से आगे बढ़ रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हर घर नल का जल, हर घर तक पक्की गली-नाली, हर घर बिजली, हर गाँव तक सड़क, पुल-पुलियों का निर्माण आदि कार्य कराए गये हैं, उसे मेंटेन रखने के लिए भी काम किया जा रहा है ताकि लोगों को असुविधा न हो। इसके अलावा पढ़ाई, इलाज सहित जो भी आवश्यक काम हैं, वह तेजी से आगे बढ़ाया जा रहा है। जहाँ कहीं भी अगर कोई काम करने की जरूरत हैं तो आप सभी सलाह दें। आप सभी के सहयोग से बिहार और आगे बढ़ेगा, यही जननायक कर्पूरी ठाकुर जी के प्रति सही मायने में श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने कहा कि पार्टी द्वारा चलाये गये सदस्यता अभियान में 75 लाख लोगों ने जदयू की सदस्यता ग्रहण की है। कोई पार्टी में आता है, हम उसे आगे बढ़ाते हैं और फिर वह चला जाता है, मेरा अपना कोई स्वार्थ नही है। हमारी यही इच्छा है कि बिहार आगे बढ़े। जननायक कर्पूरी ठाकुर जी और राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की एक-एक बात को याद रखना है और हम सभी को एकजुट रहकर उनके सपने को साकार करना है। इस अवसर पर हम जननायक को नमन करते हैं और जब तक जीवित रहेंगे लोगों के हित में काम करते रहेंगे।

समारोह को वित्त, वाणिज्य कर एवं संसदीय कार्य मंत्री श्री विजय कुमार चौधरी, ऊर्जा मंत्री श्री बिजेंद्र प्रसाद यादव, जल संसाधन मंत्री श्री संजय कुमार झा, भवन निर्माण मंत्री श्री अशोक चौधरी, सांसद सह जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, सांसद सह जनता दल यूनाइटेड के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष श्री वशिष्ठ नारायण सिंह, सांसद श्री चंद्रेश्वर प्रसाद चंद्रवंशी, सांसद श्री रामनाथ ठाकुर, जनता दल यूनाइटेड के प्रदेश अध्यक्ष श्री उमेश सिंह कुशवाहा, पूर्व सांसद श्री मंगनी लाल मंडल ने भी संबोधित किया।

जनता दल यूनाइटेड अतिपिछड़ा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष सह विधायक श्री विजय सिंह निषाद ने जयंती समारोह की अध्यक्षता की, जबकि जनता दल यूनाइटेड के प्रदेश महासचिव श्री धर्मेन्द्र चंद्रवंशी ने मंच का संचालन किया ।

इस अवसर पर ग्रामीण विकास मंत्री श्री श्रवण कुमार, समाज कल्याण मंत्री श्री मदन सहनी, परिवहन मंत्री श्रीमती शीला कुमार, खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री श्रीमती लेशी सिंह, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मो० जमा खान, मंत्री विज्ञान एवं प्रावैधिकी श्री सुमित कुमार सिंह, मंत्री मद्य निषेध उत्पाद एवं निबंधन विभाग श्री सुनील कुमार, सांसद श्री दिलेश्वर कामत,

सांसद श्री कविता सिंह, सांसद श्री दुलाल चंद गोस्वामी, सांसद श्री संतोष कुशवाहा, सांसद श्री रामप्रीत मंडल, सांसद श्री अनिल हेगड़े, अन्य मंत्रीगण, सांसदगण, विधायकगण, विधान पार्षदगण, पूर्व मंत्रीगण, सांसदगण, विधायकगण, विधान पार्षदगण, जनता दल यूनाइटेड के नेतागण सहित बड़ी संख्या में जनता दल यूनाइटेड के कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Top