संसद के अगले सत्र में खत्म हो जाएंगे 1500 पुराने कानून,
केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू के दिए एक बयान के मुताबिक केंद्र सरकार 1500 से ज्यादा कानूनों को रद्द करने की तैयारी कर रही है.
केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि केंद्र सरकार संसद के आगामी शीतकालीन सत्र के दौरान 1500 से अधिक अप्रचलित और पुराने कानूनों को रद्द करेगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोगों के जीवन में सरकारी हस्तक्षेप को कम करना चाहते हैं. 
रिजिजू ने कहा कि अप्रचलित कानून आम लोगों के सामान्य जीवन में बाधा हैं और वर्तमान समय में ये कानून प्रासंगिक नहीं हैं, न ही कानून की किताबों में रहने के लायक हैं. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री की इच्छा है कि लोगों पर इनके अनुपालन के बोझ को कम किया जाए, यह सुनिश्चित किया जाए कि वे यथासंभव शांति से रह सकें. वह आम लोगों के जीवन में कम सरकारी हस्तक्षेप चाहते हैं.

केंद्रीय कानून मंत्री ने कहा, केंद्र में हमारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार ने सभी अप्रचलित पुरातन कानूनों को हटाने का फैसला किया है, क्योंकि अनावश्यक कानून आम आदमी के लिए एक बोझ हैं. हमने संसद के शीतकालीन सत्र में 1500 से अधिक कानूनों को रद्द करने का फैसला किया है. मैं कई और निरसन अधिनियम पेश करने के लिए तैयार हूं
उन्होंने कहा कि कानून आम लोगों को न्याय दिलाने के लिए हैं न कि उन्हें परेशान करने के लिए. वे यह सुनिश्चित करने के वास्ते कुछ तंत्र निर्धारित करने के लिए हैं कि आम लोगों का जीवन यथासंभव सामान्य हो.
 केंद्रीय मंत्री ने कहा कि गृह मंत्रालय राज्य में बाहरी लोगों के प्रवेश को रोकने के लिए मेघालय में इनर लाइन परमिट (आईएलपी) शुरू करने की लोगों की मांग पर गौर कर रहा है.



Top