झारखंड विधानसभा स्थापना दिवस : वीर सपूतों को मिला सम्मान, कोरोना टीकाकरण में बेहतर करने वाले डीसी पुरस्कृत

रांची,22नवब्बर।झारखंड विधानसभा के स्थापना दिवस पर बिरसा मुंडा उत्कृष्ट विधायक सम्मान से विश्रामपुर विधायक रामचन्द्र चंद्रवंशी सम्मानित किए गए. राज्यपाल रमेश बैस ने इन्हें सम्मानित किया. सीएम हेमंत सोरेन ने विधानसभा के उत्कृष्ट कर्मियों को सम्मानित किया गया.

झारखंड विधानसभा के 21वें स्थापना दिवस पर कोरोना टीकाकरण में उत्कृष्ट कार्य करने वाले पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त सूरज कुमार, रांची के उपायुक्त छवि रंजन और रामगढ़ उपायुक्त माधवी मिश्रा को मोमेंटों एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया. इस मौके पर झारखंड की तीरंदाज कोमोलिक बारी, अंकिता भगत और क्रिकेटर इंद्राणी राय को भी सम्मानित किया गया. झारखंड के वीर सूपतों को भी मरणोपरांत सम्मान दिया गया.

झारखंड विधानसभा की 21वीं वर्षगांठ पर राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि विधानसभा की कार्यवाही से आम जनता को काफी अपेक्षाएं रहती हैं. आज का दिन एक तरफ विधान सभा की उपलब्धियों पर प्रसन्नता व्यक्त करने के साथ ही दूसरी ओर उन कमियों, नीतियों और कार्य पद्धतियों पर मंथन एवं चिन्तन करने का भी अवसर है, जिससे कि कैसे हम और भी बेहतर ढंग से काम करें और जनहित की आवश्यकताओं और उनकी समस्याओं के प्रति गंभीर और संवेदनशील रहें ताकि उसके अनुरूप सरकारी नीतियां और योजनाएं बनाई जा सकें. सदन में वाद-विवाद हो, उच्च स्तर का हो, उसमें गंभीरता हो और सुचारू रूप से हो, इसका भी ध्यान रखने की आवश्यकता है. जनता न केवल अपने क्षेत्र के विधायक द्वारा किये गये प्रश्न को गंभीरतापूर्वक सुनती है, बल्कि सरकार का उस पर क्या विचार है, ये भी जानने का प्रयास करती है. इसलिए सदस्यों को बेहतर तरीके से प्रश्न करना चाहिये ताकि सरकार से उचित जबाब मिले.

झारखंड विधानसभा अध्यक्ष रबीन्द्रनाथ महतो ने कहा कि आज हर्ष का दिन है. यह अवसर राज्य गठन की परिकल्पना करने वाले एवं इस आंदोलन को अपने लहू से सींचने वाले आंदोलनकारियों को नमन करने के साथ राज्य गठन के उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए समीक्षा करने का अवसर भी है. झारखंड में चलने वाला आंदोलन देश में राज्य निर्माण के लिए लंबा और शांतिपूर्ण चलने वाला सबसे बड़ा आंदोलन था. हम सभी सत्ता पक्ष और विपक्ष की भूमिका में विधानसभा में रहते हैं और एक ही परिसर के अंदर पूरे राज्य के विषय में चिंतन- मंथन करते हैं. खट्टे-मीठे नोंक-झोंक के साथ नीति निर्धारण होता है. विधानसभा ऐसी आईना है, जहां राज्य का चेहरा दिखाई देता है. विधानसभा के माध्यम से राज्य को दिशा देने का प्रयास होता है.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि झारखंड स्थापना दिवस के अवसर पर विभिन्न योजनाओं को लागू किया गया है. आपके अधिकार- आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के जरिए जरूरतमंदों को योजनाओं से जोड़ने का काम हो रहा है. झारखंड के सभी वृद्धजनों, दिव्यांगजनों परित्यक्त महिलाओं को सर्वजन पेंशन योजना से जोड़ा जायेगा. यह कार्य सरकार के दो वर्ष पूर्ण होने तक पूरा करने का प्रयास हो रहा है. पेंशन योजना के तहत अब किसी तरह का लक्ष्य निर्धारित नहीं होगा. सभी जरूरतमंदों को इसका लाभ मिलेगा. सरकार घर-घर जाकर समस्याओं का समाधान करने में जुटी है.

Top