सेहत: सफेद दाग का होमियोपैथी में है कारगर इलाज

सफेद दाग प्राणघातक नहीं, कष्टदायक नहीं लेकिन निरंतर मन को सालने वाली पीड़ा से कोई कैसे मुक्त हो सकता है। कौन से दुष्कर्म का फल है? कौन सा प्रायश्चित है? दिन रात उठने बैठते चलते फिरते बस एक ही चिंता है। क्या हो गया? सफेद दाग कोई छोटा बड़ा बच्चा, बुजुर्ग और मर्द काला, गोरा किसी को भी अपनी गिरफ्त में ले सकता है ।फिर तो बेचैनी का आलम देखते बनता है। लाख समझाइए यह रोग नहीं संक्रामक नहीं, परंतु  सुनने का कोई राजी नहीं। इससे मुक्त होने के लिए अन्य चिकित्सकों का दरवाजा खटखटा चुके होंगे, जांच परीक्षण से तवाह हो चुके होंगे, पूजा पाठ व्रत, अनुष्ठान कर चुके होंगे है, सब करके देख लिए होंगे और थक कर इलाज कराना छोड़ भी दिए होंगे। सफेद दाग का होमियोपैथी में है कारगर इलाज। पंरतु एक परहेज अतिआवश्यक  है कि दवा  में किसी भी प्रकार सुगंधित तेल  दवा के अंदर‌ प्रवेश न करें। 
लक्षण के अनुसार दवा इस्तेमाल करें।
1-सफेद दाग दूध के समान को तो  काली कार्ब 30 एक बूंद तीन बार रोज लेना चाहिए।
2-हाथ पर की अंगुलियों पर सफेद दाग हो तो साइलीसिया 30
एक बूंद तीन बार रोज लेना चाहिए साथ में नेट्रम म्यूर 3एक्स
सुबह-शाम सेवन करें।
3-सफेद दाग-नेट्रम म्यूर 3 एक्स तीन बार साथ में कैल्केरिया फास 3एक्स तीन बार रोज लेना चाहिए।
4-बाहरी प्रयोग के लिए Psores  Cor क्यू सुवह शाम स्थान पर लगाएं।
कोई भी दवा चिकित्सक की सलाह से ही इस्तेमाल करें।
    डॉ लक्ष्मी नारायण सिंह
    होमियोपैथी अस्पताल
    फतुहा, पटना (बिहार)
    मो 9204090774

Download Pdf
Top