केन्द्र नाराज,पश्चिम  बंगाल के मुख्य सचिव अल्पन बंदोपाध्याय का तबादला कर दिल्ली बुलाया


कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) ने आदेश में कहा है कि पश्चिम बंगाल सरकार मुख्य सचिव अल्पन बंदोपाध्याय को केंद्र में अगली पदस्थापना के लिए कार्यमुक्त करे.


नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव अल्पन बंदोपाध्याय का तबादला कर दिया गया है. कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) ने पश्चिम बंगाल सरकार को पत्र भेजकर कहा है कि बंदोपाध्याय को कार्यमुक्त किया जाए. पत्र के मुताबिक, उन्हें 31 मई तक दिल्ली में विभाग को रिपोर्ट करना होगा. 
बतौर मुख्य सचिव उनका कार्यकाल खत्म हो गया था. लेकिन ममता सरकार ने तीन महीने के लिए उनका कार्यकाल बढ़ा दिया था.

केंद्र ने यह कदम ऐसे समय में उठाया है जब शुक्रवार को पीएम मोदी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की बैठक को लेकर विवाद खड़ा हो गया था. ,चक्रवात यास को लेकर आयोजित पीएम मोदी की बैठक में सीएम ममता बनर्जी करीब आधे घंटे देरी से पहुंचीं. कुछ देर बैठक में रुकने के बाद ममता बनर्जी चक्रवात प्रभावित इलाकों के सर्वेक्षण के लिए निकल गईं. इस दौरान मुख्य सचिव अल्पन बंदोपाध्याय भी मौजूद थे.1


पीएम मोदी के साथ बैठक के बाद सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि चक्रवात ‘यास’ के कारण राज्य को हुए नुकसान पर प्रधानमंत्री को एक रिपोर्ट सौंपी है. अधिकारियों ने बताया कि प्रभावित इलाकों के पुनर्विकास के लिए 20,000 करोड़ रुपये के पैकेज की मांग की है.


अधिकारियों ने बताया कि मुख्य सचिव अल्पन बंदोपाध्याय के साथ मुख्यमंत्री ने हिंगलगंज, हसनाबाद, संदेशखली, पिनाखा और जिले के अन्य इलाकों में चक्रवात के बाद की स्थिति का जायजा लिया.


पूर्वी मेदिनीपुर, दक्षिण एवं उत्तर 24 परगना जिलों में कई इलाके चक्रवात ‘यास’ से प्रभावित हैं. चक्रवात ‘यास’ बुधवार सुबह पड़ोसी ओडिशा के तट से टकराया था. इसके चलते इन जिलों में कई जगहों पर भारी बारिश हुई और तेज चक्रवाती तूफान आये.

शुक्रवार को यास चक्रवात से हुए नुकसान को लेकर पीएम मोदी के साथ समीक्षा बैठक में ममता बनर्जी 30 मिनट की देरी से पहुंचीं। यही नहीं राज्य के मुख्य सचिव भी देरी से पहुंचे। यही नहीं मीटिंग में पहुंचकर ममता बनर्जी ने साइक्लोन से राज्य में हुए नुकसान से जुड़े कुछ दस्तावेज दिए और चली गईं। सूत्रों के मुताबिक ममता बनर्जी का कहना था कि उन्हें कुछ मीटिंग्स में जाना है। 

Download Pdf
Top