बिहार में ब्लैक फंगस महामारी घोषित , एपिडेमिक एक्ट में शामिल

पटना,22 मई। बिहार में कोरोनावायरस के बीच ब्लैक फंगस बीमारी  महामारी घोषित हो गया है। इस बीमारी के बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए सरकार ने फैसला लिया है। इस बीमारी का इलाज पटना के पीएमसीएच, एनएमसीएच, और आईजीआईएमएस और एम्स में इलाज होगा.
स्वास्थ मंत्री मंगल पांडेेय ने कहा है कि इस बीमारी को आपदा की श्रेणी में रखते हुए ऐपिडमिक डिजिज एक्ट के तहत अधिसूचित किया गया । PMCH , NMCH में मरीजों के इलाज की विशेष व्यवस्था की गई है. मरीजों को एंफोटेरिसिन की दवा मुफ्त में मिलेगी. एपिडेमिक एक्ट में ब्लैक फंगस को शामिल कर लिया गया. इस बीमारी से ग्रसित मरीज का बेहतर इलाज का फैसला लिया गया है. आपदा की श्रेणी में इस बीमारी को शामिल किया गया.
केंद्र सरकार ने पहले ही ब्लैक फंगस को महामारी की सूची में शामिल कर लिया है. ब्लैक फंगस को केंद्र सरकार के साथ हरियाणा, राजस्थान और तेलंगाना ने पहले ही महामारी घोषित कर दिया है.
ब्लैक फंगस के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए पिछले दिनों यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी इसे महामारी घोषित कर दिया था.इसके लक्षण की बात करे तो नाक जाम होना, नाक से काला या लाल स्राव निकलना, गाल की हड्डी में दर्द होना, चेहरे पर एक तरफ दर्द होना या सूजन, दांत या जबड़े में दर्द, दांत टूटना, धुंधला या दोहरा दिखाई देना और सीने में दर्द और सांस में परेशानी जैसे लक्षणों से इसकी पहचान की जा सकती है.

Download Pdf
Top