उत्तराखंड:  सैनिक के बेटे पुष्कर सिंह धामी मुख्यमंत्री बनेंगे

देहरादून, 03 जुलाई।उधम सिंह नगर जिले के नेपाल बॉर्डर से लगी खटीमा विधानसभा से दूसरी बार विधायक पुष्कर सिंह धामी परे मुख्यमंत्री बनेंगे।देहरादून में हुई बीजेपी विधायक दल की बैठक में धामी को नेता निर्वाचित किया गया है।                  खटीमा से भाजपा के युवा विधायक पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड के 11वें मुख्यमंत्री होंगे। धामी रविवार को शपथ ग्रहण करेंगे। चुनावी साल में भाजपा ने युवा चेहरे पर दांव खेला है। 45 वर्षीय धामी छात्र जीवन से राजनीति में सक्रिय हैं। धामी के नाम की घोषणा करके भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने एक बार फिर चौंकाया। मुख्यमंत्री की दौड़ में गिने जाने वाले दिग्गज नेता सतपाल महाराज, त्रिवेंद्र सिंह रावत, धनसिंह रावत समेत कई बड़े नाम निर्णायक क्षणों में पिछड़ गए।                                                         उत्तराखंड के 20 वर्षों के इतिहास में प्रदेश को 10 मुख्यमंत्री मिले और रविवार को शपथ ग्रहण के बाद 11वें मुख्यमंत्री के रूप में कुमाऊं के पुष्कर सिंह धामी शपथ लेंगे। पुष्कर से पहले कुमाऊं ने चार और मुख्यमंत्री दिए हैं। इनमें सबसे पहले भगत सिंह कोश्यारी, दूसरे विजय बहुगुणा, एनडी तिवारी फिर हरीश रावत।

इसे विडंबना ही कहेंगे कि दिवंगत पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी को छोड़कर कोई भी नेता मुख्यमंत्री के रूप में पांच साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर सका। नए मुख्यमंत्री भी आठ या नौ महीने ही मुख्यमंत्री रह पाएंगे क्योंकि अगले साल मार्च तक विधान सभा चुनाव हो जाने हैं। 

उत्तराखंड : पुष्कर सिंह धामी बनेंगे नए सीएम, रविवार को शपथ लेंगे राज्य के सबसे युवा मुख्यमंत्री

राज्य गठन के समय भाजपा ने मुख्यमंत्री की कमान नित्यानंद स्वामी के हाथ में सौंपी लेकिन 2002 का चुनाव आते-आते नित्यानंद स्वामी को इस्तीफा देना पड़ा और कुमाऊं के बागेश्वर से ताल्लुक रखने वाले भगत सिंह कोश्यारी विधायक दल के नेता चुने गए। कोश्यारी 30 अक्तूबर 2001 से एक मार्च 2002 तक सीएम रहे। पार्टी 2002 में उनके नेतृत्व में ही चुनाव में गई लेकिन उसे शिकस्त मिली। उन्होंने 123 दिन तक सीएम की कुर्सी संभाली थी। 
लंबे समय तक केंद्रीय राजनीति में रहे  कांग्रेसी दिग्गज यूपी के पूर्व  सीएम नारायण दत्त तिवारी नया राज्य बनने पर उत्तराखंड के भी पांच वर्ष सीएम रहे।




Download Pdf
Top